Ncert solutions for class 10 hindi kritika chapter 1 mata ka aanchal. NCERT Solutions for Class X Kritika Part 2 Hindi Chapter 1 2018-07-16

Ncert solutions for class 10 hindi kritika chapter 1 mata ka aanchal Rating: 8,8/10 1886 reviews

Mata ka aanchal

ncert solutions for class 10 hindi kritika chapter 1 mata ka aanchal

This period is high time for every student to start their preparation seriously so that they can score well in their final examinations. उत्तर: उनकी रचनाओं को स्वयं ढूंढकर पढ़िए।. गोपियों ने किन-किन उदाहरणों के माध्यम से उद्धव को उलाहने दिए हैं? उत्तर यह कहानी उस समय की कहानी प्रस्तुत करती हैं जब बच्चों के पास खेलने के लिए अत्याधिक साधन नहीं होते थे। वे लोग अपने खेल प्रकृति से ही प्राप्त करते थे और उसी प्रकृति के साथ खेलते थे। उनके लिए मिट्टी, खेत, पानी, पेड़, मिट्टी के बर्तन आदि साधन थे। परन्तु आज के बच्चों की दुनिया इन बच्चों से भिन्न है। आज के बच्चे टी. प्रस्तुत पाठ के आधार पर यह कहा जा सकता है कि बच्चे का अपने पिता से अधिक जुड़ाव था, फिर भी विपदा के समय वह पिता के पास न जाकर माँ की शरण लेता है। आपकी समझ से इसकी क्या वजह हो सकती है? माता का अँचल शीर्षक की उपयुक्तता बताते हुए कोई अन्य शीर्षक सुझाइए। उत्तर लेखक ने इस कहानी का नाम माँ का आँचल उपयुक्त रखा है। इस कहानी में माँ के आँचल की सार्थकता को समझाने का प्रयास किया गया है। भोलानाथ को माता व पिता दोनों से बहुत प्रेम मिला है। उसका दिन पिता की छत्रछाया में ही शुरू होता है। पिता उसकी हर क्रीड़ा में सदैव साथ रहते हैं, विपदा होने पर उसकी रक्षा करते हैं। परन्तु जब वह साँप को देखकर डर जाता है तो वह पिता की छत्रछाया के स्थान पर माता की गोद में छिपकर ही प्रेम व शान्ति का अनुभव करता है। माता उसके भय से भयभीत है, उसके दु:ख से दुखी है, उसके आँसु से खिन्न है। वह अपने पुत्र की पीड़ा को देखकर अपनी सुधबुध खो देती है। वह बस इसी प्रयास में है कि वह अपने पुत्र की पीड़ा को समाप्त कर सके। माँ का यही प्रयास उसके बच्चे को आत्मीय सुख व प्रेम का अनुभव कराता है। इसके लिए एक उपयुक्त शीषर्क और हो सकता था माँ की ममता क्योंकि कहानी में माँ का स्नेह ही प्रधान है। 10. When students enrol at Vedantu, they can select from a list of hand-picked mentors and study face-to-face from the comfort of their home online on the payment of a small fee. उद्धव पर कृष्ण का प्रभाव तो पड़ा नहीं परन्तु लगता है कृष्ण पर उद्धव के योग साधना का प्रभाव अवश्य पड़ गया है। 2. बच्चे माता-पिता के प्रति अपने प्रेम को कैसे अभिव्यक्त करते हैं? यहाँ माता-पिता का बच्चे के प्रति जो वात्सल्य व्यक्त हुआ है, उसे अपने शब्दों में लिखिए। उत्तर भोलानाथ के पिता अपने पुत्र के प्रति बहुत स्नेह रखते थे । सुबह से लेकर शाम तक जितना भी समय मिलता उसे वे अपने भोलानाथ के साथ बिताते थे ।भोलानाथ को सुबह जगाना,नहलाना ,अपने साथ पूजा के लिए बिठाना , पने साथ मछलियों को चारा खिलाने ले जाना और उसके खेलों में शामिल होना उनके गहरे लगाव को बताता है। भोलानाथ की माता वात्सल्य व ममत्व से भरपूर माता है। भोलानाथ को भोजन कराने के लिए उनका भिन्न-भिन्न तरह से स्वांग रचना एक स्नेही माता की ओर संकेत करता है। जो अपने पुत्र के भोजन को लेकर चिन्तित है। दूसरी ओर उसको लहुलुहान व भय से काँपता देखकर माँ भी स्वयं रोने व चिल्लाने लगती है। अपने पुत्र की ऐसी दशा देखकर माँ काह्रदय भी दुखी हो जाता है। माँ का ममतालु मन इतना भावुक है कि वह बच्चे को डर के मारे काँपता देखकर रोने लगती है। उसकी ममता पाठक को बहुत प्रभावित करती है। Q7.

Next

NCERT Solutions for Class

ncert solutions for class 10 hindi kritika chapter 1 mata ka aanchal

भोलनाथ जब अपने पिता की गोद में बैठा हुआ आईने में अपने प्रतिबिम्ब को देखकर खुश होता रहता है। वहीं पिता द्वारा रामायण पाठ छोड़कर देखने पर लजाकर व मुस्कुराकर आईना रख देना । यहाँ बच्चों का अपने अक्ष के प्रति जिज्ञासा भाव बड़ा ही मनोहर लगता है और उसका शर्माकर आईना रखना बहुत ही सुन्दर वर्णन है। 2. गोपियों ने अपने वाक्चातुर्य के आधार पर ज्ञानी उद्धव को परास्त कर दिया , उनके वाक्चातुर्य की विशेषताएँ लिखिए? उत्तर भोलानाथ और उसके साथी खेल के लिए आँगन व खेतों में पड़ी चीज़ों को ही अपने खेल का आधार बनाते हैं उनके लिए मिट्टी के बर्तन, पत्थर, पेड़ों के फलें, गीली मिट्टी, घर के छोटे-मोटे सामान आदि वस्तुएँ होती थी जिनसे वह खेलकर खुश रहते थे परंतु आज के बालक जो खेल खेलते हैं वे इनसे पूर्णतः भिन्न हैं हमारे खेलने के लिए क्रिकेट का सामान, किचेन सेट, डॉक्टर सेट, तरह-तरह के वीडियो गेम, व कंप्यूटर गेम आदि बहुत सी चीज़ें हैं जो इनकी तुलना में एकदम अलग है भोलानाथ जैसे बच्चों की खेलने की सामग्री आसानी से व सुलभता से बिना मूल्य खर्च किये ही प्राप्त हो जाती हैं जबकी आज के बच्चों की खेल सामग्री बाज़ार से खरीदना पड़ता है 1. भ्रमरगीत में उद्धव व गोपियों के माध्यम से ज्ञान को प्रेम के आगे नतमस्तक होते हुए बताया गया है, ज्ञान के स्थान पर प्रेम को सर्वोपरि कहा गया है। 8. भोलनाथ और उसके साथियों के खेल और खेलने की सामग्री आपके खेल और खेलने की सामग्री से किस प्रकार भिन्न है? आपके विचार से भोलनाथ अपने साथियों को देखकर सिसकना क्यों भूल जाता है? According to the news, the exam for the matriculation and intermediate schools will be held next year. पृष्ठ संख्या: 8 प्रश्न अभ्यास Q1. लिखिए। उत्तर: यह पूरी रचना नाक के मुद्दे पर ही आधारित है। जार्ज पंचम की नाक मुख्य मुद्दा है जिसके न रहने से महारानी के नाराज होने का खतरा है। हुक्मरानों को लगता है कि हिंदुस्तान की नाक बचाने के लिए जार्ज पंचम की नाक का पुन:निर्माण जरूरी है। मूर्तिकार को लगता है कि हिंदुस्तान के हर दिवंगत नेता की नाक जार्ज पंचम की नाक से बड़ी है। आखिरकार जब किसी आम आदमी की नाक को काटकर जार्ज पंचम की मूर्ति में लगाया जाता है तो सबको लगता है कि पूरे हिंदुस्तान की नाक कट गई। सभी अखबार इसके सांकेतिक विरोध में उस दिन कोई और खबर नहीं छापते हैं। जार्ज पंचम की लाट पर किसी भी भारतीय नेता, यहाँ तक कि भारतीय बच्चे की नाक फिट न होने की बात से लेखक किस ओर संकेत करना चाहता है। उत्तर: मूर्तिकार को पता चलता है कि हर भारतीय नेता; यहाँ तक कि भारतीय बच्चे की नाक; जार्ज पंचम की नाक से बड़ी है। इस कथन के द्वारा लेखक हमारे आत्मसम्मान की ओर संकेत करता है। भले ही सभी हुक्मरान रानी के स्वागत की तैयारियों में लग जाएँ लेकिन जब बात अपनी नाक की हो तो कोई विरला ही मिलेगा जो इससे समझौता करने को तैयार होगा। अखबारों ने जिंदा नाक लगाने की खबर को किस तरह से प्रस्तुत किया? उत्तर माता से बच्चे का रिश्ता ममता पर आधारित होता है जबकि पिता से स्नेहाधारित होता है । बच्चे को विपदा के समय अत्याधिक ममता और स्नेह की आवश्यकता थी। भोलानाथ का अपने पिता से अपार स्नेह था पर जब उस पर विपदा आई तो उसे जो शांति व प्रेम की छाया अपनी माँ की गोद में जाकर मिली वह शायद उसे पिता से प्राप्त नहीं हो पाती। माँ के आँचल में बच्चा स्वयं को सुरक्षित महसूस करता है। Q2.

Next

NCERT Class 10 Hindi Kritika Chapterwise Solutions

ncert solutions for class 10 hindi kritika chapter 1 mata ka aanchal

यह कहानी उस समय की कहानी प्रस्तुत करती हैं जब बच्चों के पास खेलने के लिए अत्याधिक साधन नहीं होते थे। वे लोग अपने खेल प्रकृति से ही प्राप्त करते थे और उसी प्रकृति के साथ खेलते थे। उनके लिए मिट्टी, खेत, पानी, पेड़, मिट्टी के बर्तन आदि साधन थे। परन्तु आज के बच्चों की दुनिया इन बच्चों से भिन्न है। आज के बच्चे टी. There are a total of five chapters included in the Hindi Kritika Class 10 Book Solutions which are Mata Ka Anchal, George Pacham ki Naak, Sana Sana Hath Jodi, Ahi Thaiya Jhulani Herani Ho Ram, and Mein Kyon Likhata Hun. उत्तर: अपने अनुभव के आधार पर इस प्रश्न का उत्तर दें। प्रश्न 4: भोलनाथ और उसके साथियों के खेल और खेलने की सामग्री आपके खेल और खेलने की सामग्री से किस प्रकार भिन्न है? उत्तर: बच्चे कई तरीके से अपने माता-पिता के प्रति प्रेम व्यक्त करते हैं। कुछ बच्चे अपने माता-पिता का सम्मान करके ऐसा करते हैं। कुछ बच्चे अपनी माँ से ठिठोली करके ऐसा करते हैं। कुछ शर्मीले बच्चे तो बस मंद मुसकान से ही ऐसा कर देते हैं। इस पाठ में बच्चों की जो दुनिया रची गई है वह आपके बचपन की दुनिया से किस तरह भिन्न है? The Central Board of Secondary Education conducted Board Examinations are only a few months away from now. उत्तर: इस पाठ के बच्चों की दुनिया बड़ी मजेदार लगती है। ये बच्चे दीन दुनिया से बेखबर हैं और उन्हें अपने भविष्य की कोई चिंता नहीं है। इस जमाने में तो बच्चे को स्कूल के पहले दिन से ही अपने क्लास में सबसे आगे रहने की चिंता होने लगती है। आजकल के बच्चों पर स्कूल, परिवार और समाज की ओर से अत्यधिक दवाब बनाया जाता है। हर बच्चे से उम्मीद की जाती है कि वह हरफनमौला बनकर दिखाए। स्कूल की टाइमिंग भी ऐसी है कि बच्चे को तो ठीक से सोने की भी फुरसत नहीं मिल पाती है।. गोपियों ने उद्धव के सामने तरह — तरह के तर्क दिए हैं , आप अपनी कल्पना से और तर्क दीजिए। उत्तर:- गोपियों ने उद्धव के सामने तरह-तरह के तर्क दिए हैं। हम भी निम्नलिखित तर्क दे सकते हैं — 1. बच्चे का अपने पिता के साथ कुश्ती लड़ना। शिथिल होकर बच्चे के बल को बढ़ावा देना और पछाड़ खा कर गिर जाना। बच्चे का अपने पिता की मूंछ खींचना और पिता का इसमें प्रसन्न होना बड़ा ही आनन्दमयी प्रसंग है। 6.

Next

Chapter Wise Important Questions CBSE Class 10 Hindi A

ncert solutions for class 10 hindi kritika chapter 1 mata ka aanchal

Ncert books in hindi is required by many students from hindi state board exams. Ncert solution class 10 Hindi Course B includes text book solutions from part 1 and part 2. संकलित पदों को ध्यान में रखते हुए सूर के भ्रमरगीत की मुख्य विशेषताएँ बताइए? उद्धव ज्ञानी थे , नीति की बातें जानते थे ; गोपियों के पास ऐसी कौन — सी शक्ति थी जो उनके वाक्चातुर्य में मुखिरत हो उठी? यहाँ माता-पिता का बच्चे के प्रति जो वात्सल्य व्यक्त हुआ है, उसे अपने शब्दों में लिखिए। उत्तर भोलानाथ के पिता अपने पुत्र के प्रति बहुत स्नेह रखते थे । सुबह से लेकर शाम तक जितना भी समय मिलता उसे वे अपने भोलानाथ के साथ बिताते थे ।भोलानाथ को सुबह जगाना,नहलाना ,अपने साथ पूजा के लिए बिठाना , पने साथ मछलियों को चारा खिलाने ले जाना और उसके खेलों में शामिल होना उनके गहरे लगाव को बताता है। भोलानाथ की माता वात्सल्य व ममत्व से भरपूर माता है। भोलानाथ को भोजन कराने के लिए उनका भिन्न-भिन्न तरह से स्वांग रचना एक स्नेही माता की ओर संकेत करता है। जो अपने पुत्र के भोजन को लेकर चिन्तित है। दूसरी ओर उसको लहुलुहान व भय से काँपता देखकर माँ भी स्वयं रोने व चिल्लाने लगती है। अपने पुत्र की ऐसी दशा देखकर माँ काह्रदय भी दुखी हो जाता है। माँ का ममतालु मन इतना भावुक है कि वह बच्चे को डर के मारे काँपता देखकर रोने लगती है। उसकी ममता पाठक को बहुत प्रभावित करती है। 9. Students can set their own schedules and keep track of their academic progress through Vedantu's interactive digital platform and online statistics. भोलनाथ और उसके साथियों के खेल और खेलने की सामग्री आपके खेल और खेलने की सामग्री से किस प्रकार भिन्न है? उत्तर भोलानाथ और उसके साथी खेल के लिए आँगन व खेतों में पड़ी चीज़ों को ही अपने खेल का आधार बनाते हैं उनके लिए मिट्टी के बर्तन, पत्थर, पेड़ों के फलें, गीली मिट्टी, घर के छोटे-मोटे सामान आदि वस्तुएँ होती थी जिनसे वह खेलकर खुश रहते थे परंतु आज के बालक जो खेल खेलते हैं वे इनसे पूर्णतः भिन्न हैं हमारे खेलने के लिए क्रिकेट का सामान, किचेन सेट, डॉक्टर सेट, तरह-तरह के वीडियो गेम, व कंप्यूटर गेम आदि बहुत सी चीज़ें हैं जो इनकी तुलना में एकदम अलग है भोलानाथ जैसे बच्चों की खेलने की सामग्री आसानी से व सुलभता से बिना मूल्य खर्च किये ही प्राप्त हो जाती हैं जबकी आज के बच्चों की खेल सामग्री बाज़ार से खरीदना पड़ता है Q4. The board has also announced the date of the exams. उत्तर: यह कहानी उस समय की कहानी प्रस्तुत करती हैं जब बच्चों के पास खेलने के लिए अत्याधिक साधन नहीं होते थे। वे लोग अपने खेल प्रकृति से ही प्राप्त करते थे और उसी प्रकृति के साथ खेलते थे। उनके लिए मिट्टी, खेत, पानी, पेड़, मिट्टी के बर्तन आदि साधन थे। परन्तु आज के बच्चों की दुनिया इन बच्चों से भिन्न है। आज के बच्चे टी.

Next

class 10 hindi kritika maataa kaa anchal ncert exercise solution

ncert solutions for class 10 hindi kritika chapter 1 mata ka aanchal

We have organised all ncert books in hindi for class 10 which can be downloaded in the pdf format. प्रश्न 1: प्रस्तुत पाठ के आधार पर यह कहा जा सकता है कि बच्चे का अपने पिता से अधिक जुड़ाव था फिर भी विपदा के समय वह पिता के पास न जाकर माँ की शरण लेता है। आपकी समझ से इसकी क्या वजह हो सकती है? प्रस्तुत पाठ के आधार पर यह कहा जा सकता है कि बच्चे का अपने पिता से अधिक जुड़ाव था, फिर भी विपदा के समय वह पिता के पास न जाकर माँ की शरण लेता है। आपकी समझ से इसकी क्या वजह हो सकती है? उत्तर:- गोपियों ने उद्धव के व्यवहार की तुलना निम्नलिखित उदाहरणों से की हैं 1 गोपियों ने उद्धव के व्यवहार की तुलना कमल के पत्ते से की हैं जो नदी के जल में रहते हुए भी जल की ऊपरी सतह पर ही रहता है। अर्थात् जल में रहते हुए भी जल का प्रभाव उस पर नहीं पड़ता। उसी प्रकार श्रीकृष्ण का सानिध्य पाकर भी उनका प्रभाव उद्धव पर नहीं पड़ा। 2 उद्धव जल के मध्य रखे तेल के गागर मटके की भाँति हैं, जिस पर जल की एक बूँद भी टिक नहीं पाती। इसलिए उद्धव श्रीकृष्ण के समीप रहते हुए भी उनके रूप के आकर्षण तथा प्रेम-बंधन से सर्वथा मुक्त हैं। 3 उद्धव ने गोपियों को जो योग का उपदेश दिया था, उसके बारे में उनका यह कहना है कि यह योग सुनते ही कड़वी ककड़ी के सामान प्रतीत होता है। इसे निगला नहीं जा सकता। यह अत्यंत अरूचिकर है। 3. उत्तर: इस तरह की पत्रकारिता आम जनता को सपनों की दुनिया में ले जाने का काम करती है। युवा पीढ़ी को तड़क भड़क की दुनिया शायद ज्यादा भाती है। प्राय: हर नामचीन अखबार के साथ एक रंगबिरंगा सेक्शन छपता है जिसमें फिल्मी हस्तियों, खिलाड़ियों और अन्य मशहूर हस्तियों की रंगबिरंगी तस्वीरें होती हैं। अधिकांश युवा केवल इस सेक्शन को ही ध्यान से देखते हैं क्योंकि गंभीर संपादकीय से उन्हें कोई मतलब नहीं होता है। जार्ज पंचम की लाट की नाक को पुन: लगाने के लिए मूर्तिकार ने क्या-क्या यत्न किए? इस उपन्यास अंश में तीस के दशक की ग्राम्य संस्कृति का चित्रण है। आज की ग्रामीण संस्कृति में आपको किस तरह के परिवर्तन दिखाई देते हैं। उत्तर तीस के दशक की ग्राम्य संस्कृति में किसी प्रकार के दिखावे अभाव था ।लोग बहुत ही सीधे-सादे हुआ करते थे ।लोग परस्पर मिल-जुल कर रहा करते थे।किसी भी पर्व -त्योहार को पूरे उत्साह के साथ मनाते थे ।गाँव में बचपन से खेल — खेल में ही वैसी सभी बातों को सिखाया जाता है जिससे बच्चे बड़े होकर अपने कार्य-क्षेत्र में प्रवीण हो सकें और व्यवहारिक भी बन सकें। आज की ग्रामीण संस्कृति में काफी बदलाव आए हैं । अब गाँव में दूषित राजनीति के पाँव पसारने के कारण लोगों के अन्दर जाति,धर्म,सम्प्रदाय और अमीर-गरीब जैसे भेद पनप गए हैं ।आज के गाँव में लगभग सारी शहरी सुविधाएँ लोगों को प्राप्त हो रही हैं। बिजली,पानी,स्कूल,अस्पताल,सड़क और खेती के वैज्ञानिक संसाधन उपलब्ध हैं। पृष्ठ संख्या: 9 Q6. उद्धव के व्यवहार की तुलना किस-किस से की गई है? Hindi is one of the most widely spoken languages in the country. Class 10 Mata ka aanchal - shivpujan sahay Hindi kritika chapter 1 class 10 part 1 Summary and Exercise are very important for perfect preparation. बच्चे माता-पिता के प्रति अपने प्रेम को कैसे अभिव्यक्त करते हैं? गोपियों ने उद्धव से योग की शिक्षा कैसे लोगों को देने की बात कही है? उत्तर: भोलानाथ और उसके साथी अपने आस पास उपलब्ध साधारण से साधारण चीज को भी खिलौना बना लेते थे। मैं या तो अपने स्मार्टफोन पर कोई गेम खेलता हूँ या फिर अपने स्कूल में क्रिकेट और फुटबॉल खेलता हूँ। कभी-कभी अपनी गली में मैं अन्य बच्चों के साथ पिट्ठू खेलता हूँ। लेकिन हमें भोलानाथ और उसके साथियों की तरह पूरे दिन खेलने की आजादी नहीं मिल पाती है। पाठ में आए ऐसे प्रसंगों का वर्णन कीजिए जो आपके दिल को छू गए हों। उत्तर: इस पाठ के लगभग सभी प्रसंग दिल को छूने वाले हैं। भोलानाथ द्वारा बाबूजी के कंधे की सवारी। उसकी मइया द्वारा उसे तोता मैना के कौर बनाकर खिलाना, उसकी अपने बाबूजी के साथ कुश्ती, साँप के डर से भागकर उसका अपनी माँ के आँचल में छुप जाना; ये सब कुछ विशेष प्रसंग हैं। इस उपन्यास के अंश में तीस के दशक की ग्राम्य संस्कृति का चित्रण है। आज की ग्रामीण संस्कृति में आपको किस तरह के परिवर्तन दिखाई देते हैं? उसकी परेशानी को आप किस तरह तर्कसंगत ठहराएँगे? उत्तर: यह पंक्ति भी हमारी उस मानसिकता को दर्शाता है जिसके कारण हम पश्चिमी देशों को प्रगति का पर्याय मानते हैं। आपने कई नेताओं को कहते हुए सुना होगा कि पटना को हांगकांग बना देंगे या मुंबई को लंदन बना देंगे। वे शायद यह भूल जाते हैं हर शहर की अपनी एक अलग आत्मा होती है और अपना एक व्यक्तित्व होता है। लेकिन हमारी हीन भावना के कारण हम यह समझ बैठते हैं कि नई दिल्ली में सब कुछ है केवल नाक नहीं है। जार्ज पंचम की नाक लगने वाली खबर के दिन अखबार चुप क्यों थे? उत्तर:- गोपियाँ श्री कृष्ण के प्रेम में रात-दिन, सोते-जागते सिर्फ़ श्री कृष्ण का नाम ही रटती रहती है। कृष्ण के प्रति अपने अनन्य प्रेम को गोपियों ने चींटियों और हारिल की लकड़ी के उदाहरणों द्वारा व्यक्त किया है। उन्होंने स्वयं की तुलना चींटियों से और श्री कृष्ण की तुलना गुड़ से की है। उनके अनुसार श्री कृष्ण उस गुड़ की भाँति हैं जिस पर चींटियाँ चिपकी रहती हैं। हारिल एक ऐसा पक्षी है जो सदैव अपने पंजे में कोई लकड़ी या तिनका पकड़े रहता है। वह उसे किसी भी दशा में नहीं छोड़ता। उसी तरह गोपियों ने मन, वचन और कर्म से श्री कृष्ण की प्रेम रुपी लकड़ी को दृढ़तापूर्वक पकड़ लिया है। 7. To Study Mata ka aanchal - shivpujan sahay Hindi kritika chapter 1 class 10 part 1 for Class 10 this is your one stop solution.

Next

CHAPTER 1 MATA KA ANCHAL QUESTION ANSWERS

ncert solutions for class 10 hindi kritika chapter 1 mata ka aanchal

उत्तर: माता से बच्चे का ममत्व का रिश्ता होता है। वह चाहे अपने पिता से कितना प्रेम करता हो या पिता अपने बच्चे को कितना भी प्रेम देता हो पर जो आत्मीय सुख माँ की छाया में प्राप्त होता है वह पिता से प्राप्त नहीं होता। भोलानाथ का अपने पिता से अपार स्नेह था पर जब उस पर विपदा आई तो उसे जो शांति व प्रेम की छाया अपनी माँ की गोद में जाकर मिली वह शायद उसे पिता से प्राप्त नहीं हो पाती। माँ के आँचल में बच्चा स्वयं को सुरक्षित महसूस करता है। लेखक ने इसलिए पिता पुत्र के प्रेम को दर्शाते हुए भी इस कहानी का नाम माँ का आँचल रखा है । प्रश्न 2: आपके विचार से भोलनाथ अपने साथियों को देखकर सिसकना क्यों भूल जाता है? उत्तर:- भ्रमरगीत की निम्नलिखित विशेषताएँ इस प्रकार हैं — 1. . गोपियों ने यह क्यों कहा कि हरि अब राजनीति पढ़ आए हैं? पाठ में आए ऐसे प्रसंगों का वर्णन कीजिए जो आपके दिल को छू गए हों? बच्चों द्वारा बारात का स्वांग रचते हुए दुल्हन को लिवा लाना व पिता द्वारा दुल्हन का घुघंट उटाने पर सब बच्चों का भाग जाना, बच्चों के खेल में समाज के प्रति उनका रूझान झलकता है तो दूसरी और उनकी नाटकीयता, स्वांग उनका बचपना। 3. उत्तर: 1 भोलनाथ जब अपने पिता की गोद में बैठा हुआ आईने में अपने प्रतिबिम्ब को देखकर खुश होता रहता है। वहीं पिता द्वारा रामायण पाठ छोड़कर देखने पर लजाकर व मुस्कुराकर आईना रख देना । यहाँ बच्चों का अपने अक्ष के प्रति जिज्ञासा भाव बड़ा ही मनोहर लगता है और उसका शर्माकर आईना रखना बहुत ही सुन्दर वर्णन है। 2 बच्चों द्वारा बारात का स्वांग रचते हुए दुल्हन को लिवा लाना व पिता द्वारा दुल्हन का घुघंट उटाने पर सब बच्चों का भाग जाना , बच्चों के खेल में समाज के प्रति उनका रूझान झलकता है तो दूसरी और उनकी नाटकीयता ,स्वांग उनका बचपना। 3 बच्चे का अपने पिता के साथ कुश्ती लड़ना। शिथिल होकर बच्चे के बल को बढ़ावा देना और पछाड़ खा कर गिर जाना। बच्चे का अपने पिता की मूंछ खींचना और पिता का इसमें प्रसन्न होना बड़ा ही आनन्दमयी प्रसंग है। प्रश्न 6: इस उपन्यास अंश में तीस के दशक की ग्राम्य संस्कृति का चित्रण है। आज की ग्रामीण संस्कृति में आपको किस तरह के परिवर्तन दिखाई देते हैं? When they are on the go for scoring more marks for the main subjects, their performance level and the marks got greatly reduced in English. Do check out the sample questions of Mata ka aanchal - shivpujan sahay Hindi kritika chapter 1 class 10 part 1 for Class 10, the answers and examples explain the meaning of chapter in the best manner. उत्तर क्षण में रोना क्षण में हँसना बच्चों का स्वभाव होता है । भोलानाथ भी बच्चे की स्वाभाविक आदत के अनुसार अपनी उम्र के बच्चों के साथ खेलने में रूचि लेता है। उसे अपनी मित्र मंडली के साथ तरह-तरह की क्रीड़ा करना अच्छा लगता है। वे उसके हर खेल व हुदगड़ के साथी हैं। अपने मित्रों को मजा करते देख वह स्वयं को रोक नहीं पाता। इसलिए रोना भूलकर वह दुबारा अपनी मित्र मंडली में खेल का मजा उठाने लगता है। उसी मग्नावस्था में वह सिसकना भी भूल जाता है। 4.

Next

NCERT Solutions for Class

ncert solutions for class 10 hindi kritika chapter 1 mata ka aanchal

उत्तर:- गोपियाँ कृष्ण के आगमन की आशा में दिन गिनती जा रही थीं। वे अपने तन-मन की व्यथा को चुपचाप सहती हुई कृष्ण के प्रेम रस में डूबी हुई थीं। वे इसी इंतजार में बैठी थीं कि श्री कृष्ण उनके विरह को समझेंगे, उनके प्रेम को समझेंगे और उनके अतृप्त मन को अपने दर्शन से तृप्त करेंगे। परन्तु यहाँ सब उल्टा होता है। कृष्ण को न तो उनकी पीड़ा का ज्ञान है और न ही उनके विरह के दुःख का। कृष्ण ने योग का संदेश देने के लिए उद्धव को भेज दिया। विरह की अग्नि में जलती हुई गोपियों को जब उद्धव ने कृष्ण को भूल जाने और योग-साधना करने का उपदेश देना प्रारम्भ किया, तब उनके हृदय में जल रही विरहाग्नि में घी का काम कर उसे और प्रज्वलित कर दिया। 5. कृष्ण के प्रति अपने अनन्य प्रेम को गोपियों ने किस प्रकार अभिव्यक्त किया है? इस उपन्यास अंश में तीस के दशक की ग्राम्य संस्कृति का चित्रण है। आज की ग्रामीण संस्कृति में आपको किस तरह के परिवर्तन दिखाई देते हैं। उत्तर तीस के दशक की ग्राम्य संस्कृति में किसी प्रकार के दिखावे अभाव था ।लोग बहुत ही सीधे-सादे हुआ करते थे ।लोग परस्पर मिल-जुल कर रहा करते थे।किसी भी पर्व -त्योहार को पूरे उत्साह के साथ मनाते थे ।गाँव में बचपन से खेल - खेल में ही वैसी सभी बातों को सिखाया जाता है जिससे बच्चे बड़े होकर अपने कार्य-क्षेत्र में प्रवीण हो सकें और व्यवहारिक भी बन सकें। आज की ग्रामीण संस्कृति में काफी बदलाव आए हैं । अब गाँव में दूषित राजनीति के पाँव पसारने के कारण लोगों के अन्दर जाति,धर्म,सम्प्रदाय और अमीर-गरीब जैसे भेद पनप गए हैं ।आज के गाँव में लगभग सारी शहरी सुविधाएँ लोगों को प्राप्त हो रही हैं। बिजली,पानी,स्कूल,अस्पताल,सड़क और खेती के वैज्ञानिक संसाधन उपलब्ध हैं। पृष्ठ संख्या: 9 8. उत्तर: जार्ज पंचम की नाक लगने वाली खबर के दिन पत्रकारों को शायद अपनी बड़ी भूल का अहसास हो गया था। उस दिन केवल एक गुमनाम आदमी की नाक नहीं कटी थी बल्कि पूरे हिंदुस्तान की नाक कट गई थी। जिन अंग्रेजों से आजादी दिलाने के लिए हजारों जिंदगियाँ कुर्बान हो गईं, उसी में से एक की बेजान बुत की नाक बचाने के लिए हमने अपनी नाक कटवा ली। इसलिए उस दिन शर्म से अखबार वाले चुप थे।. उत्तर:- गोपियों के अनुसार राजा का धर्म उसकी प्रजा को अन्याय से बचाना तथा नीति से राजधर्म का पालन करना होना चाहिए। 10. उत्तर: यह सही है कि इस कहानी में बच्चों का अपने पिता के साथ अधिक जुड़ाव दिखाया गया है। लेकिन बच्चे अपने पिता और माता को अलग-अलग नजरिये से देखते हैं। जब उन्हें अत्यधिक असुरक्षा की भावना घेर लेती है तो वे अपनी माँ से सहारे और सांत्वना की उम्मीद करते हैं। पिता से बच्चे बाहरी दुनिया के बारे में सीखने को अधिक उत्सुक रहते हैं। माँ ममता और स्नेह की मूर्ति मानी जाती है। शायद इसलिए वह बच्चा विपदा के समय अपनी माँ की शरण में जाता है। आपके विचार से भोलानाथ अपने साथियों को देखकर सिसकना क्यों भूल जाता है? From holding day-to-day conversations and understanding cultural contexts, developing a thorough knowledge of Hindi literary concepts enables one to communicate with people throughout the nation and even in other cities in India. To help their students in the proper way, school teachers and mathematics experts are giving good advice to the.


Next

Kritika (Class 10) Chapter 1

ncert solutions for class 10 hindi kritika chapter 1 mata ka aanchal

EduRev is like a wikipedia just for education and the Mata ka aanchal - shivpujan sahay Hindi kritika chapter 1 class 10 part 1 images and diagram are even better than Byjus! You can see some Mata ka aanchal - shivpujan sahay Hindi kritika chapter 1 class 10 part 1 sample questions with examples at the bottom of this page. Just click on the Download link of the chapters which you would like to download. Kritika Class 10 Chapterwise Pdf Download Chapter Number Download Link Chapter 1 Chapter 2 Chapter 3 Chapter 4 Chapter 5 Thanks for reading Kritika Class 10 Chapterwise Pdf Download. You can download Free Mata ka aanchal - shivpujan sahay Hindi kritika chapter 1 class 10 part 1 pdf from EduRev by using search above. बच्चे का अपने पिता के साथ कुश्ती लड़ना। शिथिल होकर बच्चे के बल को बढ़ावा देना और पछाड़ खा कर गिर जाना। बच्चे का अपने पिता की मूंछ खींचना और पिता का इसमें प्रसन्न होना बड़ा ही आनन्दमयी प्रसंग है। Q5. गोपियों के अनुसार राजा का धर्म क्या होना चाहिए? आपके विचार से भोलनाथ अपने साथियों को देखकर सिसकना क्यों भूल जाता है? It has gotten 19 views and also has 0 rating.

Next

NCERT Solutions for Class 10th: पाठ 1

ncert solutions for class 10 hindi kritika chapter 1 mata ka aanchal

Vedantu Gives You the Competitive Edge Exams are a competitive academic experience and not ensuring thorough preparation and learning strategies will bring stress to students. इसमें उदात्त भावनाओं का मनोवैज्ञानिक चित्रण हुआ है। 3. सूरदास ने अपने भ्रमर गीत में निर्गुण ब्रह्म का खंडन किया है। 4. अर्थात् श्री कृष्ण के साथ कोई व्यक्ति एक क्षण भी व्यतीत कर ले तो वह कृष्णमय हो जाता है। वे प्रेम बंधन में बँधने एवं मन के प्रेम में अनुरक्त होने की सुखद अनुभूति से पूर्णतया अपरिचित हैं। 2. उत्तर क्षण में रोना क्षण में हँसना बच्चों का स्वभाव होता है । भोलानाथ भी बच्चे की स्वाभाविक आदत के अनुसार अपनी उम्र के बच्चों के साथ खेलने में रूचि लेता है। उसे अपनी मित्र मंडली के साथ तरह-तरह की क्रीड़ा करना अच्छा लगता है। वे उसके हर खेल व हुदगड़ के साथी हैं। अपने मित्रों को मजा करते देख वह स्वयं को रोक नहीं पाता। इसलिए रोना भूलकर वह दुबारा अपनी मित्र मंडली में खेल का मजा उठाने लगता है। उसी मग्नावस्था में वह सिसकना भी भूल जाता है। Q3.


Next

Mata ka aanchal

ncert solutions for class 10 hindi kritika chapter 1 mata ka aanchal

निर्गुण अर्थात् जिस ब्रह्म के पास गुण नहीं है उसकी उपासना हम नहीं कर सकते हैं। 3. बच्चों द्वारा बारात का स्वांग रचते हुए दुल्हन को लिवा लाना व पिता द्वारा दुल्हन का घुघंट उटाने पर सब बच्चों का भाग जाना, बच्चों के खेल में समाज के प्रति उनका रूझान झलकता है तो दूसरी और उनकी नाटकीयता, स्वांग उनका बचपना। 3. इस पाठ में बच्चों की जो दुनिया रची गई है वह आपके बचपन की दुनिया से किस तरह भिन्न है? Students are suggested to go through the books carefully and also do the questions at the end of the chapters to ensure that they understand all the concepts given in the chapters. You can also find Mata ka aanchal - shivpujan sahay Hindi kritika chapter 1 class 10 part 1 ppt and other Class 10 slides as well. उत्तर माता से बच्चे का रिश्ता ममता पर आधारित होता है जबकि पिता से स्नेहाधारित होता है । बच्चे को विपदा के समय अत्याधिक ममता और स्नेह की आवश्यकता थी। भोलानाथ का अपने पिता से अपार स्नेह था पर जब उस पर विपदा आई तो उसे जो शांति व प्रेम की छाया अपनी माँ की गोद में जाकर मिली वह शायद उसे पिता से प्राप्त नहीं हो पाती। माँ के आँचल में बच्चा स्वयं को सुरक्षित महसूस करता है। 2.

Next